News

PNB महाघोटाला:SFIO ने बैंक के एमडी सुनील मेहता से पूछताछ की |

85Views

हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी  के 12,636 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में समन जारी होने के बाद पीएनबी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी  सुनील मेहता   बुधवार को सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस (SFIO) के समक्ष पेश हुए. एसएफआईओ ने इस मामले में सुनील मेहता से पूछताछ की. हालांकि अभी मीडिया में यह जानकारी नहीं आ पाई है कि एसएफआईओ को उन्होंने क्या जानकारी दी. इससे पहले मंगलवार को एक्सिस बैंक के डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर वी श्रीनिवासन को एसएफआईओ के मुंबई ऑफिस के बाहर देखा गया था.

इससे पहले पीएनबी महाघोटाला में सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस की मुंबई विंग ने आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर और एक्सिस बैंक की एमडी और सीईओ शिखा शर्मा को पूछताछ के लिए समन भेजा था. उन पर आरोप है कि 31 बैंकों ने मेहुल चोकसी के गीतांजलि ग्रुप को करीब 5280 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का लोन दिया था. इसमें आईसीआईसीआई बैंक के करीब 405 करोड़ रुपये के साथ ही एक्सिस बैंक की भी बड़ी रकम है.दूसरी तरफ नीरव मोदी ने इस पूरे मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में भी याचिका दायर की है. इस पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) को नोटिस जारी किया है. यह नोटिस ईडी को नीरव मोदी की याचिका के आधार पर जारी किया गया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार उच्च न्यायालय ने इस पूरे मामले को ‘स्केची’ बताया है. अदालत ने ईडी को मामले से जुड़े सभी दस्तावेज पेश करने के लिए कहा है. दिल्ली हाईकोर्ट में इस मामले की अगली सुनवाई अब 19 मार्च 2018 को दोपहर 2.15 बजे होगी.इससे पहले इस महाघोटाले के सामने आने के बाद जांच एजेंसियों ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है. इसी के तहत सोमवार को सीबीआई ने पीएनबी के जनरल मैनेजर- ट्रेजरी एसके चंद से भी पूछताछ की थी. महाघोटाले के चार आरोपियों मनीष के बोसमिया, मितेन अनिल पंड्या, संजय रंभिया और सम्पत एंड मेहता को भी स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने 17 मार्च तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है.

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पर सख्ती करते हुए हाल ही में मुंबई की एक विशेष अदालत ने गैरजमानती वारंट जारी किया है. आपको बता दें कि नीरव मोदी अमेरिका भाग गया है और वहां से पत्र लिखकर वह पहले ही कह चुका है कि किसी भी कीमत में वह पीएनबी के कर्ज के पैसे नहीं लौटाएगा. अमेरिका की एक अदालत ने भी नीरव मोदी के स्वामित्व वाली कंपनी फायरस्टार डायमंड से लेनदारों के ऋण संग्रह पर अंतरिम रोक लगा दी है. इस कंपनी ने दिवालिया घोषित होने से जुड़ी प्रक्रिया के लिए आवेदन किया है.नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से करीब दो अरब डॉलर की कथित धोखाधड़ी का आरोप है. न्यूयॉर्क के सदर्न डिस्ट्रिक्ट में दिवाला अदालत ने दो पृष्ठों के आदेश में कहा है कि दिवाला प्रक्रिया के आवेदन के साथ ही संग्रह से जुड़ी अधिकतर गतिविधियों पर स्वत: रोक लग गई है. नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की तरफ से पीएनबी के अरबों रुपये का घोटाला सामने आने के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने दोनों की मुंबई और पुणे स्थित तमाम संपत्तियों को जब्त कर लिया है.

Nikita Wagde
the authorNikita Wagde

Leave a Reply